बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की जानकारी हिंदी में (BETI BACHAO BETI PADHAO Yojana In Hindi)

Sharing Is Caring:

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की जानकारी हिंदी में – (BETI BACHAO BETI PADHAO Yojana in hindi)

OBJECTIVE OF BETI  BACHAO BETI PADHAO YOJANA)

देश में लिंग अनुपात में समानता लाने के लिए तथा बेटियों कि सुरक्षा और कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के उद्देश्य से इस योजना को लागू किया गया है।

पक्षपाती लिंग चुनाव की प्रक्रिया का उन्मूलन

बालिकाओं का अस्तित्व और सुरक्षा सुनिश्चित करना

बालिकाओं की शिक्षा सुनिश्चित करना

रणनीतियाँ

बालिका और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए एक सामाजिक आंदोलन और समान मूल्य को बढ़ावा देने के लिए जागरुकता अभियान का कार्यान्वय करना ।

इस मुद्दे को सार्वजनिक विमर्श का विषय बनाना और उसे संशोधित करने रहना सुशासन का पैमाना बनेगा।

BETI BACHAO BETI PADHAO Yojana In Hindi

निम्न लिंगानुपात वाले जिलों की पहचान कर ध्यान देते हुए गहन और एकीकृत कार्रवाई करना।

सामाजिक परिवर्तन लाने के लिए महत्वपूर्ण स्त्रोत के रुप में स्थानीय महिला संगठनों/युवाओं की सहभागिता लेते हुए पंचायती राज्य संस्थाओं स्थानीय निकायों और जमीनी स्तर पर जुड़े कार्यकर्ताओं को प्रेरित एवं प्रशिक्षित करते हुए सामाजिक परिवर्तन के प्रेरक की भूमिका में ढालना ।

जिला/ ब्लॉक/जमीनी स्तर पर अंतर-क्षेत्रीय और अंतर-संस्थागत समायोजन को सक्षम करना ।

बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर जनसंचार अभियान

देशव्यापी अभियान ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ शुरु करने के साथ यह कार्यक्रम प्रारंभ होगा जिसमें बालिका के जन्म को जश्न के रुप में मनाने के साथ उसे शिक्षा ग्रहण करने में सक्षम बनाया जाएगा। अभियान का उद्देश्य लड़कियों का जन्म,पोषण और शिक्षा बिना किसी भेदभाव के हो और समान अधिकारों के साथ वे देश की सशक्त नागरिक बनें।

राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों के निम्न लिंगानुपात वाले 161 संकटग्रत जिलों में बहुक्षेत्रीय शुरुआत

महिलाओं एवं बाल विकास मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय के परामर्श से बहुक्षेत्रीय कार्यों को तैयार किया गया है। बहुक्षेत्रीय कार्यों का संज्ञान लेते हुए संदर्भित क्षेत्रों,राज्यों एवं जिलों में निम्न लिंगानुपात को सुधारने के लिए परिणामप्रेक्षित और संकेतकों को एक साथ उपयोग में लाया जाएगा।

सुकन्या समृद्धि योजना – SUKANYA SAMRIDHI YOJANA

बेटी बचाओ  योजना के अंतर्गत सुकन्या समृद्धि योजना सबसे मुख्य घटक हे जिससे कन्या भ्रूण हत्या और बालिकाओं को फाइनेंसियल मदद मिलेगी !

इस योजना के लिए आवेदन करने की आयुसीमा (AGE LIMIT FOR APPLYING IN THIS SCHEME)

इस योजना के तहत 10 वर्ष तक के आयु की सभी भारतीय नागरिकता प्राप्त बालिकाएं देश के किसी भी बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवा कर योजना का लाभ उठा सकती हैं।

इस योजना के तहत सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज  ( SUKANYA SAMRIDHI KHATA KHULVANE KE LIYE JARURI DOCUMENTS)

बच्ची के जन्म का प्रमाण पत्र ।

माँ-बाप या बच्ची की पालन-पोषण करने वाले सदस्य का पहचान पत्र ।

माँ-बाप के पते का प्रमाण पत्र ।

सुकन्या समृद्धि खाते से सम्बंधित प्रमुख जानकारी (SUKANYA SAMRIDHI KHATE SE SAMBANDHIT JANKARI)

यह khata 1000 रूपए से खुलेगा जो खाते में जमा हो जायेगा।

इस खाते में प्रत्येक महीने 1000 रूपए जमा करना अनिवार्य है तथा प्रत्येक साल में 150000 रूपए से ज्यादा जमा नहीं किया जा सकता है।

इस खाते से 50% धनराशि बालिका के 18 वर्ष की आयु पूरी होने पर उसकी पढ़ाई के लिए निकली जा सकती है।

इस योजना से बेटियों को मिलने वाले लाभ (ES YOJANA SE BETIYO KO MILNE WALE LABH)

  • इस योजना के अंतर्गत खोले गए खाते में जमा की गयी राशि बालिका के 21 वर्ष पुरे होने पर निकाला जा सकता है। उससे पहले 18 वर्ष की आयु में उच्च शिक्षा के लिए हीं खाते से धन निकल सकते हैं।
  • इस योजना के तहत खोले गए खाते की धनराशि पर सरकार द्वारा किसी भी प्रकार का टैक्स नही काटा जायेगा।
  • इस योजना के तहत खोले गए बालिकाओं के खाते पर सरकार द्वारा सबसे अधिक ब्याज दिया जाता  है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना  के अंतर्गत खाता खुलवाने पर सरकार द्वारा दिए जाने वाले लाभ का मकसद भ्रूण हत्या करने वाले और लड़कियों को बोझ समझने वाले लोगों के बीच  जागरूकता फ़ैलाना है कि  बालिकाएं बोझ नहीं हैं, इस योजना का लाभ उठाकर वे अपनी बेटियों के पढाई और शादी में लगने वाले पैसे के बोझ से राहत पा सकते हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!