कृषि इनपुट अनुदान योजना 2022: ऐसे करे ऑनलाइन आवेदन:

Sharing Is Caring:

कृषि इनपुट अनुदान योजना 2022: ऐसे करे ऑनलाइन आवेदन:

सरकार के द्वारा अगर किसानों की फसलों को प्राकृतिक आपदा की वजह से नुकसान हो जाता है तो उसे कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के अंतर्गत सब्सिडी प्रदान की जाती है । कृषि इनपुट योजना का संचालन केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों के द्वारा किया जाता है , कृषि इनपुट के अंतर्गत भारत सरकार के द्वारा अधिसूचित प्राकृतिक आपदाओं एवं राज्य सरकार के द्वारा स्थानीय आपदाओं के लिए निर्धारित सहायता DBT के माध्यम से सरकार द्वारा फसलों के नुकसान की भरपाई हेतु अनुदान देने की व्यवस्था कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के अंतर्गत की गई है ।

कृषि इनपुट योजना के लाभ:

 कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार और राज्य सरकार के कुछ मापदंड होती है इसके अंतर्गत अगर खरीफ मौसम में खड़ी फसलों में ओलावृष्टि के कारण सुखाड़ जैसी स्थिति उत्पन्न होती है तो किसानों को अनुदान / सब्सिडी देने का प्रावधान किया गया है ।

◆ कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के अंतर्गत अगर असिंचित क्षेत्र में किसानों को आपदा का सामना करना पड़ता है तो उन्हें 6800 प्रति हेक्टेयर दिया जाएगा साथ ही सिंचित क्षेत्र के किसानों के लिए यह रकम ₹13500 रहेगी और अधिकतम 2 हेक्टेयर तक के लिए दिया जाएगा , साथ ही फसल क्षेत्र के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के अंतर्गत न्यूनतम ₹1000 का अनुदान दिया जाएगा ।

◆ कृषि इनपुट सब्सिडी योजना का लाभ किसान विभाग के ऑनलाइन पंजीकृत किसानों को ही दिया जाएगा , यानी इस योजना के तहत वही किसान अपना आवेदन कर सकते हैं जिनका किसान पंजीकरण एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट के माध्यम से हो चुका है ।

Krishi Input Anudan Yojana Highlights 2022

योजना का नाम कृषि इनपुट अनुदान योजना
विभाग कृषि विभाग बिहार पटना
लाभार्थी राज्य के सभी पंजीकृत किसान
लाभ फसल क्षति, असमय वर्षा ,ओलावृष्टि भूस्खलन ,बाढ़, सूखा ग्रसित क्षेत्र होने पर राज्य सरकार द्वारा चयनित क्षेत्र में खेती करने वाले किसान ।
आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन के माध्यम से
राज्य बिहार
आधिकारिक वेबसाइट Click Here
स्टेटस चालू

कुछ महत्वपूर्ण बातें ।

◆ जिन किसान का पहले से ही किसान पंजीकरण हो चुका है उन किसानों को फिर से किसान पंजीकरण करने की जरूरत नहीं है वह सीधे कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं ।

◆ कृषि इनपुट सब्सिडी योजना का लाभ लेने के लिए सबसे पहले आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपका जिला सूखाग्रस्त घोषित हुआ है या नहीं इसकी जानकारी आप अपने ब्लॉक में जाकर ले सकते हैं ।

◆ जिला सूखा घोषित होने के बाद ही आप कृषि इनपुट सब्सिडी योजना का लाभ ले पाएंगे , अगर आपका जिला सूखाग्रस्त नहीं है और आप कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के लिए आवेदन कर देते हैं तो ऐसी स्थिति में आपके एप्लीकेशन को अस्वीकृत की जा सकती है ।

◆ कृषि इनपुट योजना / Krishi Input Subsidy Scheme के अंतर्गत सब्सिडी की राशि डीवीटी/DBT के माध्यम से दी जाती है ऐसी स्थिति में आपके खाते में पैसा आधार कार्ड के माध्यम से ही भेजा जाएगा ।

◆ आधार कार्ड के माध्यम से अगर डीवीटी/DBT के द्वारा पैसा भेजा जाता है तो ऐसी स्थिति में आपका आधार कार्ड एनपीसीआई/NPCI से मैप होना चाहिए और वही आधार कार्ड आपके बैंक अकाउंट से भी लिंक को होना चाहिए ।

◆ आधार कार्ड एनपीसीआई और बैंक अकाउंट से लिंक नहीं इसकी जानकारी यहां क्लिक करके प्राप्त करें ।

Krishi Input Subsidy Scheme Apply:

● कृषि इनपुट सब्सिडी योजना / Krishi Input Subsidy Scheme के लिए ऑनलाइन आवेदन किए जा सकते हैं अगर आपके आधार कार्ड में मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड हो और उस पर आपको ओटीपी प्राप्त होता हो तो, अगर आपके आधार कार्ड में मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड नहीं है तो कृषि इनपुट सब्सिडी योजना / Krishi Input Subsidy Scheme के लिए आवेदन आप अपने नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर या फिर ब्लॉक में जाकर अन्यथा ई किसान भवन से भी करवा सकते हैं कृषि इनपुट सब्सिडी योजना / Krishi Input Subsidy Scheme के पंजीकरण के लिए आपसे कोई भी शुल्क नहीं ली जाएगी ।

नोट:- जिन किसान का पहले से ही किसान पंजीकरण/Farmer Registration हो चुका है उन्हें फिर से किसान पंजीकरण/Farmer Registration करने की आवश्यकता नहीं है वह सीधे ही अपना कृषि इनपुट सब्सिडी योजना / Krishi Input Subsidy Scheme के तहत आवेदन कर सकते हैं ।

किसानों की श्रेणी के आधार पर आवेदन के प्रकार:

1. स्वयं की स्थिति में :- कृषि इनपुट सब्सिडी योजना / dbt bihar Krishi Input Subsidy Scheme के अंतर्गत स्वयं की स्थिति में किसानों को अपना थाना नंबर ,खाता नंबर ,खेसरा नंबर, कुल सुखार से प्रभावित रकवा और अगल-बगल के किसानों के नाम अंकित करने होंगे ।

2. वास्तविक खेतिहर की स्थिति में : – कृषि इनपुट सब्सिडी योजना / dbt bihar Krishi Input Subsidy Scheme के अंतर्गत वास्तविक खेतीहर की स्थिति में किसानों को थाना नंबर , खेसरा नंबर , कुल सुखार से प्रभावित रकबा और अगल-बगल के 2 किसानों के नाम और उनके द्वारा सत्यापित दस्तावेज भी अपलोड करने होंगे ।

3. स्वयं+ वास्तविक खेतिहर की स्थिति में :- कृषि इनपुट सब्सिडी योजना / dbt bihar Krishi Input Subsidy Scheme के अंतर्गत अगर किसान की श्रेणी स्वयं+ वास्तविक खेतिहर की होती है तो उन्हें थाना नंबर, खाता नंबर, खेसरा नंबर, कुल सुखार से प्रभावित रकवा ,अगल-बगल के किसानों के 2 नाम और वास्तविक खेतिहर के लिए खेसरा नंबर ,सुखार से प्रभावित रकवा, अगल-बगल के किसानों के 2 नाम और साथ ही साथ उनके द्वारा सत्यापित दस्तावेज भी अपलोड करने होंगे ।

नोट :- किसानों द्वारा दिए गए कुल प्रभावित रकवा के अनुसार ही अनुदान की राशि निर्धारित होगी । उदाहरण के लिए अगर आपका 2 हेक्टेयर तक की जमीन सूखाग्रस्त होती है तो इस हिसाब से आपको अधिकतम ₹13500+₹13500 दिए जाएंगे Krishi Input Subsidy apply ।

◆ जैसे ही किसान अपनी सारी जानकारी दर्ज कर देता है तो उन्हें एक शपथ पत्र का चयन करना होता है जैसे ही आप शपथ पत्र का चयन करते हैं और नेक्स्ट बटन पर क्लिक करते हैं आपके सामने एक नया पेज खुलकर आ जाता है , यदि किसान ने अनिवार्य दस्तावेज अपलोड किए हैं तो अपने आवेदन को अंतिम सबमिट बटन पर क्लिक करते हैं अन्यथा यह जांच बटन काले रंग का दिखाई देगा जिसका मतलब आपने जो भी दस्तावेज अपलोड किए हैं वह सही से अपलोड नहीं हुआ है तो आपको पुनः उस दस्तावेज को अपलोड करना होगा और बटन आपको रंगीन दिख जाएगा अब आप अपने आवेदन को अंतिम रूप देंगे ।

◆ dbt bihar Krishi Input Subsidy Scheme के अंतर्गत जैसे ही किसान अपने आवेदन को अंतिम रूप देता है तो इसकी जानकारी उन्हें उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस/SMS के माध्यम से प्राप्त हो जाती है , आवेदन के पश्चात यह खुद-ब-खुद कृषि समन्वयक को सत्यापना के लिए आवेदन की प्रति भेज दी जाएगी ।

नोट :- कृषि इनपुट योजना के अंतर्गत आवेदन करने के समय किसान अपने कुल रकवा का विवरण डिसमिल में अंकित करेंगे ( 1अकड़= 100 डिसमिल तथा 1 हेक्टेयर=247 डिसमिल)

◆ जब भी किसान अपने आवेदन को अंतिम रूप देता है तो उनके सामने एक पावती संख्या दिख जाती है इसे वह प्रिंट कर रख ले ताकि भविष्य में अपने आवेदन की स्थिति वह ऑनलाइन ही जांच सके ।

◆ पंजीकरण संख्या के माध्यम से किसान कभी भी डीबीटीएग्रीकल्चर के वेबसाइट पर जाकर अपने आवेदन की स्थिति जांच सकता है ।

◆ dbt bihar Krishi Input Subsidy Scheme के अंतर्गत अनुमोदन की जानकारी किसान को पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एसएमएस/SMS के माध्यम से हमेशा भेज दी जाती है ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!